Saturday , November 28 2020

प्रमुख समाचार


विज्ञापन

Home / पूर्वांचल समाचार / आज़मगढ़ / 38वें द्विवार्षिक दो दिवसीय महा अधिवेशन-सरकारों की नीतियों पर जमकर बरसे नेता

38वें द्विवार्षिक दो दिवसीय महा अधिवेशन-सरकारों की नीतियों पर जमकर बरसे नेता

आजमगढ़-डेस्क-रिपोर्ट-संजीव शर्मा 
आजमगढ़ । उत्तर प्रदेश लोक निर्माण विभाग मिनिस्ट्रीयल एसोसिएशन के प्रदेश स्तरीय 38वें द्विवार्षिक दो दिवसीय महा अधिवेशन को सम्बोधित करते हुए प्रान्तीय अध्यक्ष एस0पी0 सिंह ने कहा कि पेंशन व्यवस्था को समाप्त कर सरकारो ने कर्मचारी विरोधी काम किया गया। कर्मचारी इसे कत्तई बर्दाश्त नहीं करेंगे। 2005 से बंद की गई पेंशन व्यवस्था को हर हाल में बहाल कराकर ही दम लेंगे। श्री सिंह ने कहा कि इसके लिए सभी कर्मचारी संगठनो चाहे राज्य सरकार हो या फिर केंद्र सरकार के सबको एकजुट होकर लड़ाई लड़नी होगी। सरकारो ने कर्मचारियो के इस हक को छिना है। सरकार से पूरानी पेंशन नीति को बहाल करने की मांग के साथ अन्य मांग पत्र के माध्यम से सौंपने की बात कही। कहा कि हम संगठन के माध्यम से पूरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर कुछ समय देगे उसके बाद बड़े पैमाने पर प्रदेश से लेकर तहसील स्तर तक आन्दोलन करेंगे। 38वें द्विवार्षिक दो दिवसीय महा अधिवेशन आज आजमगढ़ जिले के राहुल प्रेक्षागृह में शुरू हुआ। इस दौरान मुख्यअतिथि के रूप में शिरकत करने पहुंचे प्रान्तीय अध्यक्ष एस0पी0 सिंह ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया।
अधिवेशन को सम्बोधित करते हुए अनेक कर्मचारी संगठनो के नेताओ ने कहा कि सरकार की गलत नीतिया हमेशा संगठन के आगे झुकी है। संगठन की एकजुटता ही कर्मचारियो की ताकत है। नेताओ ने प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के उस बयान की भी मुखालफत की जिसमें कहा गया कि सरकार अमला आज भी भ्रष्टाचार में लिप्त है। नेताओ ने कहा कि ये बयान सिर्फ मुख्यमंत्री ही नहीं संगठन के जिम्मेदार नेता भी ये बयान दे रहे है। ये कर्मचारियो के लिए बहुत भयावह संकेत है। प्रदेश का अगर विकास हुआ है। तो राजनेताओ की देन नहीं है बल्कि कर्मचारियो की देन है। देश की बदनामी कभी भी कर्मचारियो की वजह से नहीं होती है हमेशा नेताओ के आचरण के वजह से होती है। नेताओ ने कहा कि इसके लिए कोई एक दल नहीं बल्कि सभी दल जिम्मेदार है। विश्व बैंक के दबाव ने आकर अटल सरकार ने पंेशन विरोधी निर्णय लिया था। जिसका खामियाजा 2005 से नियुक्ति सभी कर्मचारी झेल रहे है। सरकारे अब कर्मचारियो को दैनिक वेतन मजदूरी की तरफ ले जा रही है। ये कर्मचारियो के लिए बहुत ही खतरनाक स्थिति है। बाहर से आये प्रदेश पदाधिकारियो ने कहा कि कर्मचारियो का उत्पीड़न संगठन कभी बर्दाश्त नहीं करेंगा। कर्मचारी अपनी सभी लड़ाईयां मर्यादित तरीके से एकजुट होकर लड़ेगे। संगठन की मजबूती के लिए बिना भेदभाव के सबकी सहभागिता जरूरी है। कर्मचारी नेताओ ने संगठन को और उचाई पर ले जाने का आवाहन किया। सम्बोधन करने वालो में महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष कमलेश मिश्रा, डा. बृजलाल तिवारी, माधव शरण अग्रवाल प्रदेश उपाध्यक्ष, वरिष्ठ उपाध्यक्ष अशोक पाण्डेय, प्रान्तीय महामंत्री आरएस यादव, प्रान्तीय अध्यक्ष पर्यटन बीएल तिवारी, प्रान्तीय मंत्री राज्यकर्मचारी महासंघ नरेन्द्र प्रताप सिंह, प्रान्तीय महामंत्री पुनीत कुमार त्रिपाठी प्रमुख रूप से शामिल रहे। इस अधिवेशन में उत्तर प्रदेश लोक निर्माण विभाग मिनिस्ट्रियल एसोसिएशन ने दो वर्षो की वार्षिक रिर्पोट प्रस्तुत कर विस्तार से चर्चा की और कहा कि संगठन के सभी सदस्य अनुशासित तरीके से काम करें। कर्मचारी जनता के हितो को ध्यान मंे रखकर निर्णय ले। संगठन के सभी पदाधिकारियो ने मुख्यअतिथि अधिक्षण अभियन्ता अनुराम चतुर्वेदी आजमगढ़, नारायण राम अधिशासी अभियन्ता, प्रान्तीय अध्यक्ष एसपी सिंह, संरक्षक बृजलाल तिवारी, प्रान्तीय महामंत्री विनोद कुमार सिन्हा, महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष कमलेश मिश्रा सहित सभी पदाधिकारियो का माल्यापर्ण कर स्वागत किया एंव क्षेत्रिय अध्यक्ष सुरेन्द्र लाल श्रीवास्तव ने सभी को अंगवस्त्रम व प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर संरक्षक अम्बिका यादव, जिलाध्यक्ष विरेन्द्र कुमार सिंह, बलवन्त सिंह, ज्योति प्रकाश, छोटेलाल, वरिष्ठ उपाध्यक्ष अखिलानन्द राय, उपाध्यक्ष उपेन्द्र कुमार चैहान, सचिव चन्द्रजीत यादव, संयुक्त मंत्री हरीश यादव, कोषाध्यक्ष वशिष्ठ मुनि, संगठन मंत्री त्रिभुवन सिंह, सम्प्रेक्षक नितिन पाण्डेय, कार्यालय सचिव मोहम्मद अजफर उपस्थित रहे।

About Bharat Good News

error: Content is protected !!