Thursday , October 22 2020

प्रमुख समाचार


विज्ञापन

Home / पूर्वांचल समाचार / आज़मगढ़ / सड़े-गले फल बिकते पाये गये तो जेल और जुर्माना!

सड़े-गले फल बिकते पाये गये तो जेल और जुर्माना!

रिर्पोट-विनोद सिंह सोनू

आजमगढ़ | सेहत के लिए हानिकारक सड़े-गले फल नहीं बिकने पाएंगे। यदि ऐसा पाया गया तो जेल व जुर्माना भी लगेगा। कुछ ऐसी ही हिदायत देते दिखे ठेला पर फल बेचने वाले दुकानदारों को खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफएसडीए) के अधिकारी। जबकि नरौली स्थित ठाकुर डेयरी से खोवा का नमूना लिया गया जिसे सील कर जांच के लिए जनविश्लेषक प्रयोगशाला लखनऊ भेज दिया गया।

गर्मी में सड़े-गड़े फलों की बिक्री पर अंकुश लगाने के लिए गुरुवार को एफडीए की टीम ने सिधारी स्थित हाईडिल चौराहा, नरौली, रोडवेज, कलेक्ट्रेटी कचहरी चौराहा, बड़ादेव, मुख्य चौक, पहाड़पुर और हर्रा की चुंगी स्थित जिला चिकित्सालय के सामने ठेले पर बिक रहे फलों का निरीक्षण किया। इस दौरान लगभग लगभग 45 ठेलों से 40 दर्जन केला, 10 किलो लीची और लगभग 20 किलो खराब आम को नष्ट करवा दिया। साथ ही स्टीकर लगे सेव व अन्य फलों की बिक्री करने पर प्रतिबंध की जानकारी दी। बताया कि स्टीकर लगा फल स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है। सभी ठेला दुकानदारों को चेतावनी दी कि भविष्य में स्टीकर लगे और सड़े-गले फल नहीं बिकना चाहिए। ऐसा पाया गया तो जेल व जुर्माना दोनों होगा। इस कार्रवाई से ठेले पर फल बेच रहे दुकानदारों में हड़कंप की स्थिति रही। कार्रवाई असिस्टेंट कमिश्नर फूड चंद्र किशोर, असिस्टेंड कमिश्नर ड्रग राजीव जिदल, मंडलीय खाद्य सुरक्षा अधिकारी प्रदीप राय, मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी डीके राय, खाद्य सुरक्षा अधिकारी देवेश मिश्रा, अंकित कुमार सिंह, रामचंद्र यादव थे।

About Bharat Good News

error: Content is protected !!