Sunday , October 25 2020

प्रमुख समाचार


विज्ञापन

Home / पूर्वांचल समाचार / आज़मगढ़ / सूर्य को अघ्र्य देकर सम्पन्न हुआ छठ का महापर्व
सूर्य दर्शन के बाद अघ्र्य देते श्रद्धालु

सूर्य को अघ्र्य देकर सम्पन्न हुआ छठ का महापर्व

आजमगढ़-डेस्क- ज्ञानेन्द्र चतुर्वेदी

घाट पर छठ मैया की पूजा करतीं महिलाएं।

घाट पर छठ मैया की पूजा करतीं महिलाएं

आजमगढ़। सूर्य षष्ठी पर्व के अवसर पर होने वाला डाला छठ शुक्रवार को उगते सूर्य की लालिमा देख व्रती महिलाओं द्वारा अघ्र्यदान के साथ धूमधाम से सम्पन्न हो गया। भोर में ही नदी में खड़ी व्रती महिलाओं पर नदी का ठण्डा जल और ठिठुरन भरा मौसम भी बौना साबित हुआ। भागवान भास्कर को अघ्र्यदान के बार चार दिनों तक चलने वाली इस तपस्या का अंतिम चरण खुशनुमा माहौल में समाप्त हुआ। निराजल व्रत रखने वाली महिलाओं के चेहरे की चमक तपस्या या मनोकामना पूरी होने का संदेश दे रही थी। गुरुवार की शाम अस्ताचलगामी सूर्य को अघ्र्य देकर वापस घर लौटीं महिलाएं पूरी रात पास-पड़ोस की महिलाओं व परिजनों के साथ सुबह अघ्र्य देने के इंतजार में रतजगा करती देखी गयीं। नींद हाबी न हो इसके लिए महिलाओं का समूह छठ महिला के गीतों से पर्व को मनाते देखी गयीं। घर के पुरूष सदस्य सुबह जल्दी उठने के लिए कहीं मोबाइल तो कहीं घड़ी में एलार्म सेट कर रखे थे। भोर में स्नान ध्यान के बाद लोगों का हुजुम एक बार पुनः नदी व सरोवरों के किनारे जुटा।
व्रती महिलाओं के साथ चलने वाले वयस्क व बच्चों के सिर पर पूजा के सामान थे तो साथ जा रही महिलाएं छठ मइया के भजन गा रही थीं। हाथों में कलश और उस पर जलते दीपक के साथ घरों से निकलीं व्रती महिलाओं को देखने के बाद लग रहा था मानों रात के अंधेरे में साक्षात देवियां सड़क पर निकल पड़ी हों। इस दौरान नदी व सरोवरों में दीपदान अद्भुत छटा बिखेर रही थी। लग रहा था मानों आसमान के तारे जल में उतर आए हों। सूर्याेदय का समय नजदीक आने के साथ घाटों पर भीड़ बढ़ती ही गई। लग रहा था समूचा जनमानस घाटों पर ही जमा हो गया है। जल में पूरब की ओर मुंह करके खड़ी व्रती महिलाओं ने सूर्य की लालिमा दिखने तक तपस्या किया। इस दौरान नदी व सरोवरों के घाटों पर छठ मइया से जुड़े गीतों से वातावरण गूंजता रहा। अघ्र्यदान के बाद घर पहुंचकर महिलाओं ने घर के चैखट की पूजा की और उसके बाद बेदी पर चढ़ाए गए चने को निगलकर व्रत का पारण किया। ग्रामीण क्षेत्रों में भी हर्षोल्लास के माहौल में डाला छठ पर्व धूमधाम से मनाया गया।

 

About Bharat Good News

error: Content is protected !!