Monday , March 1 2021

प्रमुख समाचार


विज्ञापन

Home / राज्य / दिल्ली / राज्यसभा में पीएम मोदी के सामने जब गुलाम नबी बोले-‘पगड़ी संभाल जट्टा पगड़ी संभाल’, जानें फिर क्या हुआ

राज्यसभा में पीएम मोदी के सामने जब गुलाम नबी बोले-‘पगड़ी संभाल जट्टा पगड़ी संभाल’, जानें फिर क्या हुआ

 

विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने राज्यसभा में बुधवार को किसानों को देश की सबसे बड़ी ताकत करार दिया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा कि किसान अंग्रेजों के जमाने से संघर्ष करते रहे हैं और हर बार उन्होंने शासन को झुकने के लिए मजबूर किया। उन्होंने 1900 के दशक में पंजाब में हुए किसान आंदोलनों के दौरान लोकप्रिय गीत ‘‘पगड़ी संभाल जट्टा पगड़ी संभाल’’ की कुछ पंक्तियों को भी उद्धृत किया और कहा कि किसानों ने अंग्रेज सरकार को भी अपने कानून वापस लेने के लिए मजबूर कर दिया था। आजाद ने जब यह बात कही, प्रधानमंत्री मोदी उस समय सदन में मौजूद थे।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आजाद ने राष्ट्रपति अभिभाषण पर सदन में हुई चर्चा की शुरुआत करते हुए कहा कि किसान हमेशा से संषर्ष करते रहे हैं। इस क्रम में उन्होंने विभिन्न किसान आंदोलनों का भी विस्तार से जिक्र किया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मांग की कि नए कृषि कानूनों को वापस लिया जाना चाहिए। आजाद ने कहा कि किसानों की ताकत देश की सबसे बड़ी ताकत है और उनसे लड़ाई कर हम किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकते। उन्होंने कहा कि अगर लड़ना ही है, तो चीन, पाकिस्तान और कोरोना वायरस लड़िए।

देश के लिए किसान और जवान जरूरी 
चर्चा में भाग लेते हुए आजाद ने ‘‘जय जवान, जय किसान’’ नारे का जिक्र करते हुए कहा कि देश की सीमाओं की रक्षा में लगे सैनिक अत्यंत प्रतिकूल स्थिति में रहते हैं जहां तापमान शून्य से 50 डिग्री सेल्सियस तक नीचे चला जाता है। उन्होंने पिछले साल गलवान घाटी में शहीद हुए देश के 20 जवानों को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने नए कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले ढाई महीने से चल रहे आंदोलन के दौरान अपनी जान गंवाने वाले किसानों को भी श्रद्धांजलि दी।

 

About Bharat Good News

error: Content is protected !!