Monday , March 1 2021

प्रमुख समाचार


विज्ञापन

Home / अपराध / यूपी से बड़ी खबर:CM योगी के इलाके में इस कारण बदनाम हुई खाकी,लेकिन कार्रवाई से बरकार रही साख

यूपी से बड़ी खबर:CM योगी के इलाके में इस कारण बदनाम हुई खाकी,लेकिन कार्रवाई से बरकार रही साख

गोरखपुर सर्राफा लूटकांड में बड़ा खुलासा बस्ती का दरोगा ही निकला सरगना, सिपाहियों को साथ मिलकर करता था लूटयूपी पुलिस के एक दरोगा के कारनामे की वजह से इस बार फिर दागदार हुई खाकी । इस बार  इस कृत्य ने पूरे महकमे को बदनाम करने की कोशिश की है लेकिन  इस खाकी के विश्वास को कायम रखने में उत्तर प्रदेश पुलिस  कामयाब भी हुई और 24 घंटे के अंदर हुई पुलिसिया कार्यवाही में  यूपी पुलिस का दरोगा और उसका  5 साथी पुलिस की शिकंजे में आ गया  । और पुलिस ने  पूरी मामले का कर दिया खुलासा ।पुलिस के अधिकारियों ने इन आरोपियों से  पूरा सामान भी बरामद कर लिया ।           जी हां हम बात कर रहे हैं उत्तर प्रदेश पुलिस की,उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में तैनात दरोगा धर्मेन्द्र यादव ने लूट की एक ऐसी घटना को अंजाम दिया जिसे सुनकर आप चौक जायेंगे उत्तर प्रदेश में पुलिस महकमे के लिए शर्मसार कर देने की घटना सामने आयी है।  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद गोरखपुर में 20 जनवरी को दो सराफा व्यापारियों के साथ हुई 35 लाख रुपये की लूट मामले में एक दरोगा और सिपाही समेत छह लुटेरे गिरफ्तार किये गये हैं। सराफा व्यापारी को लूटने के मामले में गिरफ्तार दरोगा और सिपाही बस्ती जिले में तैनात हैं। इन्होंने लूट गैंग बना रखी है और ड्यटी से गैर हाजिर रहकर प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में लूट की घटना को अंजाम दे रहे थे। बीते बुधवार 20 जनवरी 2021 को महाराजगंज के दो सराफा कारोबारियों से हुई करीब 35 लाख नकदी व जेवरात की लूट का पुलिस ने खुलासा किया है। इस लूटकांड में बस्ती जिले में तैनात एक दरोगा व दो सिपाही शामिल थे। पुलिस ने इस गैंग के कुल छह सदस्यों को पकड़ा है। दरोगा गैंग का सरगना है। इनके पास से लूट का पूरा माल बरामद हुआ है। गैंग के सदस्यों ने 29 दिसंबर को हुई एक अन्य लूटकांड को भी स्वीकार किया है। यह है पूरा मामला महराजगंज जिले में निचलौल के रहने वाले सराफा व्यापारी दीपक वर्मा और रामू वर्मा बुधवार को गहनों की खरीदारी करने के लिए रोडवेज बस से लखनऊ जा रहे थे। दोनों के पास 19 लाख की नकदी और 16 लाख के पुराने गहने थे। नकदी व गहनों को एक बैग में रखकर दोनों साथ में जा रहे थे। रास्ते में दरोगा धर्मेंद्र यादव, सिपाही महेंद्र यादव, संतोष यादव ने कैंट इलाके में रेलवे स्टेशन से लेकर नौसड़ के बीच में इन व्यापारियों को बस से उतार लिया। इसके बाद तस्करी का आरोप लगाते हुए दोनों को एक आॅटो में बैठा लिया। इसके बाद नौसढ़ में मारपीट कर बैग लूटकर फरार हो गए। पीड़ित कारोबारियों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। गोरखपुर के एसएसपी जोगिन्दर कुमार ने बताया कि पुलिस ने सर्विलांस और सीसीटीवी फुटेज की मदद से कैंट इलाके के पैडलेगंज से वर्दीधारी तीनों बदमाशों और उनके तीन साथियों को 24 घंटे के अंदर गिरफ्तार कर लिया। उन्होंने बताया कि दरोगा धर्मेंद्र यादव की तैनाती बस्ती जिले के पुरानी बस्ती थाने में है। उसके साथ ही सिपाही महेंद्र यादव व संतोष यादव की भी तैनाती है। इसके अलावा बोलेरो ड्राइवर देवेंद्र यादव, मुखबिरी करने वाले शैलेश यादव व एक अन्य आरोपी दुर्गेश अग्रहरि को पकड़ा गया है। गैंगस्टर के अलावा लगेगा एनएसए पुलिस की पूछताछ में 29 दिसंबर को शाहपुर इलाके में सराफा व्यवसाई से लूट की घटना को अंजाम देने की बात भी इस गैंग ने स्वीकार की है। पुलिस ने इनके पास से लूट का सारा माल बरामद कर लिया है। इनके पास से घटना में इस्तेमाल की गई बोलेरो भी बरामद की गई है। इनके खिलाफ शाहपुर और कैंट थाने में आईपीसी की धारा 395, 412 और 420 की धाराओं में मामला दर्ज कर जेल भेज दिया गया है। इनके खिलाफ गैंगस्टर के साथ एनएसए और बर्खास्तगी की कार्रवाई भी की जाएगी।

About Bharat Good News

error: Content is protected !!