Tuesday , June 2 2020

प्रमुख समाचार


विज्ञापन

Home / खबरे 18+ / ममता बनर्जी के निर्देश पर काम कर रहे हैं चुनाव आयोग के अधिकारी – भाजपा

ममता बनर्जी के निर्देश पर काम कर रहे हैं चुनाव आयोग के अधिकारी – भाजपा

कोलकाता,  (हि.स.)। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की प्रदेश इकाई ने दावा किया है कि राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी आरिज आफताब ममता बनर्जी के निर्देश पर काम कर रहे हैं। ममता बनर्जी के इशारे पर ही मुख्य चुनाव अधिकारी ने बाबुल सुप्रियो के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराने का निर्देश दिया है।
सोमवार को चौथे चरण का मतदान संपन्न हो जाने के बाद मंगलवार को भाजपा के वरिष्ठ नेता मुकुल राय, प्रदेश प्रभारी और राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, उपाध्यक्ष जय प्रकाश मजूमदार, शिशिर बाजोरिया और आसनसोल से निवर्तमान सांसद एवं केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो राज्य के चुनाव आयोग दफ्तर में पहुंचे थे। इन लोगों ने राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी आरिज आफताब, विशेष पर्यवेक्षक अजय वी नायक और विशेष पुलिस पर्यवेक्षक विवेक दुबे से मुलाकात की।
अधिकारियों से मुलाकत कर बाहर निकले मुकुल राय ने कहा कि राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी ममता बनर्जी के निर्देश पर काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आसनसोल से बाबुल की जीत तय है। यही वजह है कि चुनाव आयोग तृणमूल को लाभ पहुंचाने के लिए बाबुल के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करा रहा है। उनका मीडिया ट्रायल करने का मौका भी दे रहा है ताकि बाबुल की छवि खराब हो जाए।
उन्होंने यह भी कहा कि जिस मतदान केंद्र पर कथित तौर पर बाबुल सुप्रियो के साथ तीखी बहस हुई थी, वहां के पीठासीन अधिकारी बाहर बैठकर मजे कर रहे थे। उनके खिलाफ चुनाव आयोग ने किसी तरह की कोई अनुशासनात्मक कार्रवाई क्यों नहीं की? क्योंकि, वह तृणमूल को फायदा पहुंचाने के लिए बूथ कैप्चर का रास्ता साफ करके बाहर बैठे थे। मुकुल राय ने सेंट्रल फोर्स की गतिविधियों पर भी प्रश्न खड़ा किया। उन्होंने कहा कि चौथे चरण के मतदान के दौरान कई मतदान केंद्रों पर तीन-तीन घंटे देर से केंद्रीय बलों के जवान पहुंचे थे। इसकी जांच होनी चाहिए। निश्चित तौर पर चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल में तृणमूल को लाभ पहुंचाने के लिए साजिश रची है।
पास में खड़े बाबुल सुप्रियो ने कहा कि वह नागरिक और आपराधिक धाराओं के तहत न्यायालय में मुकदमा करेंगे। उन्होंने कहा कि आसनसोल के पुलिस कमिश्नर और अन्य अधिकारी तृणमूल कार्यकर्ता की तरह काम कर रहे हैं। बार-बार शिकायत दर्ज कराए जाने के बावजूद चुनाव आयोग ने उनके खिलाफ किसी तरह का कोई कदम नहीं उठाया है। यह स्पष्ट तौर पर पक्षपात है।

About Bharat Good News

error: Content is protected !!