Saturday , November 28 2020

प्रमुख समाचार


विज्ञापन

Home / पूर्वांचल समाचार / आज़मगढ़ / प्रसिद्ध उर्दू शायर अनवर जलालपुरी के निधन पर शोक

प्रसिद्ध उर्दू शायर अनवर जलालपुरी के निधन पर शोक

आजमगढ़-डेस्क-रिपोर्ट-मोहम्मद यासिर-सरायमीर 
आजमगढ़। विश्व प्रसिद्ध शिक्षाविद तथा उर्दू के ख्याति प्राप्त शायर व कवि तथा उत्तर प्रदेश के उर्दू एकेडमी के पूर्व अध्यक्ष श्री अनवर जलालपुरी के आकस्मिक निधन से पूरे क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई।
पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष ओबैदुर्रहमान ‘सहर‘ ने शोक व्यक्त करते हुए कहा कि हम सभी ने एक बेबाक शायर, एक शिक्षक, एवं गंगा जमुनी तहजीब का अलम्बरदार व्यक्तित्व को खो दिया है। इसकी भरपाई होना निकट भविष्य में दूभर नजर आता है। डॉक्टर जुबैर अहमद ‘खावर‘ ने कहा कि सही पूछिए तो हमने एक बेहतरीन इन्सान को खो दिया है। डॉक्टर मोहम्मद सादिक इस्लाही ने अपने शोक संदेश में उनका एक मशहूर शेर ‘मैं जा रहा हूं मेरा इन्तेजार मत करना, मेरे लिये कभी भी दिल सोगवार मत करना। मेरी जुदाई तेरे दिल की आजमाइश है, इस आइने को कभी शर्मसार मत करना।‘ पढ़ते हुये खेराज अकीदत पेश किया। इसी क्रम में अच्छेलाल राही, अरविंद कुमार, टी.पी. राय, रामेश्वर बरनवाल ने व्यक्त वक्त करते हुए कहा कि वास्तव में हमने भारत माता के एक ऐसे सपूत को खो दिया है जो तमाम वादों से ऊपर ऊठकर समाज को एक कड़ी में पिरोने का कार्य किया था। ऐसे योद्धा का हमारे बीच से अचानक चले जाना वास्तव में सामाजिक क्षति है जिसकी पूर्ति निकट भविष्य में दुष्कर है। यूथ डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन के चेयरमैन व मासिक पत्रिका के संपादक वसी सिद्दीकी ने कहा कि ऐसी प्रतिभायें कभी कभी जन्म लेती हैं।जिनको देश ही नहीं अपितु पूरे विश्व में पढ़ा व सराहा जाता है। वयोवृद्ध शिक्षाविद व डॉक्टर मुजफ्फर अहसन इस्लाही ने कहा कि अनवर जलालपुरी का असामयिक निधन शिक्षा जगत ही नहीं बल्कि पूरे मानवता को पहुंचा एक आघात है।ऐसी प्रतिभायें यदा कदा ही पैदा होती हैं जो एक साधारण से परिवेश में जन्म लेकर आकाशीय क्षितिज पर अपना एक मोकाम प्राप्त कर लेती हैं।

About Bharat Good News

error: Content is protected !!