Monday , March 8 2021

प्रमुख समाचार


विज्ञापन

Home / अपराध / नोएडा में लगातार दूसरे दिन निजी अस्पताल के बाहर सड़क पर बम की सूचना

नोएडा में लगातार दूसरे दिन निजी अस्पताल के बाहर सड़क पर बम की सूचना

गणतंत्र दिवस समारोह को लेकर जारी हाई अलर्ट के बीच दिल्ली से सटे नोएडा शहर के सेक्टर-63 स्थित इलाके में संदिग्ध सामान मिलने से शुक्रवार सुबह हड़कंप मच गया। जानकारी मिलने पर नोएडा पुलिस के आलाधिकारी मौके पर काफी देर तक मौजूद रहे और जांच पड़ताल की गई। इस बीच आनन फानन में पुलिस को सूचना देकर ट्रैफिक डायवर्ट कराया गया। वहीं, जांच में पाया गया कि बम जैसी दिखने वाली यह चीज डेटोनेटर या विस्फोटक पदार्थ नहीं है। इसके बाद लोगों ने राहत की सांस ली और पुलिस ने इसे शरारती तत्वों का काम बताया है।

मिली जानकारी मुताबिक, नोएडा सेक्टर-63 स्थित छिजारसी में एसजेएम अस्पताल के पास बम रखने की सूचना से शुक्रवार सुबह हड़कंप मच गया। सूचना के बाद मौके पर पहुंची फेस-3 कोतवाली पुलिस और सेंट्रल जोन नोएडा के पुलिस अधिकारियों ने अस्पताल व उसके आसपास के परिसर को खाली कराया। अस्पताल के बाहर सर्च अभियान चलाया।

गौतमबुद्धनगर के पुलिस आयुक्त आलोक सिंह भी डॉग स्क्वायड, बम निरोधक दस्ते (बीडीएस) और फायर ब्रिगेड टीम के साथ मौके पर पहुंचे। उन्होंने मीडिया से बताया कि एक व्यक्ति ने सूचना दी थी कि एक संदिग्ध वस्तु अस्पताल के पास सड़क पर पड़ी है। बम निरोधक दस्ते द्वारा परीक्षण किया गया, तो पाया गया कि उसमें कोई भी डेटोनेटर एवं विस्फोटक पदार्थ नहीं था। किसी शरारती तत्वों द्वारा इसे एक घड़ी नुमा वस्तु लगाकर बनाया गया था। इसे वहां से हटा दिया गया है। इस पूरी कार्रवाई में करीब दो घंटे लगे। इस दौरान आसपास का ट्रैफिक को रोकना पड़ा। सुबह 7 बजे से 9 बजे तक यातायात प्रभावित रहा।

जांच के बाद के पुलिस बल समेत अन्य जांच टीमें वापस रवाना हो गईं। बीडीएस टीम ने सुरक्षा के साथ संदिग्ध वस्तु को निष्क्रिय कर दिया। संदिग्ध वस्तु को जांच के लिए लैब भेजा गया है। हालांकि पुलिस आयुक्त ने गणतंत्र दिवस से पूर्व किसी आतंकी घटना व साजिश से शहर को दहलाने की बात से इन्कार किया है।

गौरतलब है इससे पूर्व बृहस्पतिवार को भी सेक्टर-27 स्थित निजी अस्पताल में बम रखने की सूचना मिली थी। लेकिन पुलिस ने जब अस्पताल पहुंच जांच की तो यह अफवाह मिली थी। इस दौरान भी ओपीडी बंद करके अस्पताल परिसर को खाली कराना पड़ा था।

About Bharat Good News

error: Content is protected !!