Saturday , November 28 2020

प्रमुख समाचार


विज्ञापन

Home / पूर्वांचल समाचार / आज़मगढ़ / नगरीय निकायों में पंजीकृत ठेकेदारों से ही कार्य कराये जायें-मण्डलायुक्त

नगरीय निकायों में पंजीकृत ठेकेदारों से ही कार्य कराये जायें-मण्डलायुक्त

आजमगढ़-डेस्क-रिपोर्ट-शैलेन्द्र शर्मा-सिटी रिपोर्टर 

आज़मगढ़ | मण्डलायुक्त के. रविन्द्र नायक ने कहा है कि मण्डल के अन्तर्गत सभी नगरीय क्षेत्रों में निर्माण कार्यों हेतु पंजीकृत ठेकेदार ही अनुमन्य होंगे, यदि ऐसा नहीं होता है तो इसे मांिफयागिरि मानते हुए सम्बन्धित के विरुद्ध आर्गनाईज़्ड क्राइम के तहत कार्यवाही की जायेगी। इसके साथ ही उन्होंने समस्त अधिशासी अधिकारियों को निर्देशित किया कि आगामी 4 जनवरी से स्वच्छ सर्वेक्षण 2018 के सम्बन्ध में आयोजित होने वली कार्यशाओं की सभी तैयारियाॅं तत्काल पूर्ण कर लें कोई कमी नहीं रहनी चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि स्वच्छ सर्वेक्षण 2018 के तहत होने वाले कार्यक्रमों की समाप्ति तक किसी भी अधिशासी अधिकारी को अवकाश पर जाने की अनुमति नहीं होगी। मण्डलायुक्त श्री नायक ने गुरूववार को देर सायं अपने कैम्प कार्यालय पर आयोजित नगरीय निकायों की समीक्षा बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि वर्तमान में कड़ाके की ठण्ड पड़ रही है, इसलिए चिन्हित स्थानों पर अलाव लगातार जलते रहना चाहिए। उन्होंने सभी अधिशासी अधिकारियों को यह भी निर्देश दिया कि अपनी अपनी निकायों में रात्रि में रिक्शा स्टैण्ड, टैक्सी स्टैण्ड, बस स्टेशन, रेलवे स्टेशन, आवर ब्रिज आदि स्थानों का अनिवार्य रूप से भ्रमण करें तथा देखें कि यदि कहीं कोई गरीब, असहाय खुले में सोने के लिए मजबूर है तो उसे रैन बसेरे तक ले जायं तथा उनके सोने और भोजन की व्यवस्था करें। मण्डलायुक्त श्री नायक ने कम्बल वितरण की समीक्षा में पाया कि जनपद आज़मगढ़ में वितरण बहुत ही कम हुआ है। इस पर उन्होंने अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) को निर्देश दिया कि तत्काल कम्बल खरीदें और उसे पात्रों में वितरित कराना सुनिश्चित करें। इसके साथ ही उन्होने आगाह किया कि यदि किसी व्यक्ति की ठण्ड से मौत होती है सम्बन्धित के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी।
मण्डलायुक्त के.रविन्द्र नायक ने प्रधानमन्त्री आवास योजना की स्थिति का जायज़ा लेते कहा कि जनपद आज़मगढ़ एवं मऊ में डीपीआर भेजने की स्थिति सन्तोषजनक नहीं है, इस पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। उन्होंने स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत शौचालय निर्माण की समीक्षा दौरान निर्देश दिया कि जो कार्य प्रगति पर हैं उन्हें तत्काल पूरा करायें तथा शासन से दूसरी किस्त की डिमाण्ड भेजें। मण्डलायुक्त श्री नायक ने निर्देश दिया कि नगरीय क्षेत्रों को ओडीएफ (खुले में शौचमुक्त) करने हेतु मलिन बस्तियों में शौचालय निर्माण का कार्य प्राथमिकता के आधार पर पूर्ण किया जाय। उन्होंने तीनों जनपद के परियोजना अधिकारी डूडा से इस सम्बन्ध में अद्यतन स्थित चाही, जिसपर जनपद आज़मगढ़ के परियोजना अधिकारी डूडा द्वारा नगरीय क्षेत्रों की कुल मलित बस्तियांे की संख्या, निर्माणाधीन अथवा निर्मित सामुदायिक शौचालयों की संख्या आदि के सम्बन्ध में सन्तोषजनक उत्तर नहीं दिया गया। मण्डलायुक्त ने इस पर सख्त नाराजगी व्यक्त करते हुए उन्हें एक सप्ताह के अन्दर अपने विभाग से सम्बन्धित समस्त विवरण के साथ उपस्थित होने का निर्देश दिया। उन्होंने कूड़ा उठान एवं उसके निस्तारण के सम्बन्ध में सभी अधिशाषी अधिकारियों को सचेत किया कि कहीं भी सड़कों, मार्गो, गलियों में कूड़ा एकत्रित नहीं मिलना चाहिये, यदि कहीं भी कूड़ा एकत्रित पाया जाता है तो सम्बन्धित ईओ को उसका ज़िम्मेदार मानते हुए सख्त कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि किसी भी सफाई कर्मचारी या सफाई नायक को अन्य कार्य न सौपा जाये बल्कि सुनिश्चित किया जाये कि वे लोग नित्य प्रातःकाल ही सफाई में जुट जायें तथा कूड़े का तुरन्त उठान कर निश्चित स्थल पर उसका निस्तारण करें। श्री नायक ने कहा कि किसी भी दशा में सड़कों,मार्गो के किनारे कूड़े फेके हुए नहीं मिलने चाहिये। उन्होंने ओडीएफ की प्रगति में और तेज़ी लाने का निर्देश देते हुए तीनों जनपद के अपर ज़िलाधिकारी को इसकी लगातार मानिटरिंग करने का निर्देश दिया।
इस अवसर पर अपर आयुक्त राजेन्द्र कुमार, मुख्य राजस्व अधिकारी बलिया त्रिभुवन विश्वकर्मा, अपर ज़िलाधिकारी (प्रशासन) लवकुश कुमार त्रिपाठी, परियोजना अधिकारी डूडा आज़मगढ़ डा.महेन्द्र प्रसाद, मऊ हरेराम यादव सहित तीनों जनपद के अधिशासी अधिकारीगण सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

About Bharat Good News

error: Content is protected !!