Saturday , September 26 2020

प्रमुख समाचार


विज्ञापन

Home / पूर्वांचल समाचार / आज़मगढ़ / देश के शंकराचार्य सुधरे नहीं तो छोड़ दूंगी हिन्दू धर्म – मायावती
कार्यकर्ता महासम्मेलन को संबोधित करती बसपा सुप्रीमो मायावती

देश के शंकराचार्य सुधरे नहीं तो छोड़ दूंगी हिन्दू धर्म – मायावती

पूर्वांचल डेस्क :- रिपोर्ट :- धर्मेन्द्र श्रीवास्तव

मोदी योगी पर जमकर बरसी बसपा सुप्रीमो , पिछड़ो पर भी डाला डोरा

आजमगढ़।  बसपा सुप्रीमो पूर्व सीएम मायावती आज भाजपा पर जमकर बरसी और कांग्रेस की भी आलोचना की। मायावती ने केंद्र और प्रदेश की सरकार को दलित, पिछड़ा व अंल्पसंख्यक विरोधी बताया। कहा जबसे ये सरकार यूपी में सत्ता में आई है। तबसे इन वर्गो का जबरदस्त शोषण और उत्पीड़न हो रहा है। मायावती ने कहा कि इस देश के शंकराचार्य और धर्मो के ठेकेदारो ने समाज में उच नीच, भेदभाव व जातिवादी संक्रिण मानसिकता में बदलाव नहीं ले आया तो बाबा साहब डा0 भीम राम अम्बेडकर की तरह मैं भी हिन्दू धर्म छोड़कर बौद्ध धर्म धारण कर लूंगी। उन्होने भाजपा को पिछड़ो, अल्पसंख्यको का दुश्मन बताया कहा कि भाजपा ने इन जातियो को गुमराह किया। मायावती ने यूपी के सीएम योगी आदित्य नाथ के कार्यो की आलोचना की कहा कि यूपी के सीएम को मंदिरो मंे पूजा-पाठ से फुर्रसत नहीं है। वह प्रदेश का विकास क्या करेंगे। इतना नहीं पूर्वांचल के होने के बावजूद भी उनका पूर्वी उत्तर-प्रदेश के विकास पर कोई जोर नहीं है। इस कार्यकर्ता सम्मेलन एक खास बात यह रही कि हमेशा समाजवादी पार्टी की मुखालफत करने वाली मायावती ने आज सपा के खिलाफ एक शब्द भी टिप्पणी नहीं की। उन्होने आजमगढ़ को दलितो, पिछड़ो अल्पसंख्यको, गरीब और मजलूमो का पूर्वांचल का गढ़ बताया। मायावती आज आजमगढ़ के रानी की सराय ब्लाके शंकरपुर चेकपोस्ट पर आयोजित तीन मण्डलो के कार्यकर्ता महासम्मेलन को सम्बोधित कर रही थी।

भाजपा को बताया पिछड़ो का दुश्मन , कहा  निकाय चुनाव में  कर दे भाजपा का सफाया 

बसपा सुप्रीमो ने अपने डेढ़ घंटे के सम्बोधन में केवल पिछड़े, दलितो, अल्पसंख्यको और आदिवासियो की बात की। कहा कि केवल बसपा में ही इनका सम्मान है। उन्होंने मण्डल कमीशन की चर्चा करते हुए कहा कि वी0पी0 सिंह की तत्कालीन सरकार में मण्डल कमीशन लागू कराने में  और बाबा साहब भीम राव अम्बेडकर को भारत रत्न दिलाने का योगदान बसपा का है। उन्होने पिछड़े समाज को याद दिलाते हुए कहा कि भाजपा तो पिछड़ो की जबरदस्त विरोधी रही है। मण्डल कमीशन लागू होने के बाद पूरे देश में इसका पूरजोर विरोध और प्रदर्शन ही भाजपा ने नहीं किया बल्कि वी0पी0 सिंह की सरकार से समर्थन वापस लेकर सरकार ही गिरा दिया। पिछड़े वर्ग के लोगो को भाजपा से सावधान रहने की जरूरत है। भाजपा की इस बार पीएम नरेंद्र मोदी तीन वर्ष के बाद पिछड़ा वर्ग आयोग बनाने की याद इसलिए आई कि उन्हें होने वाले शहरी निकाय और लोकसभा 2019 के चुनाव में पिछड़ो के बल पर ही चुनाव लड़ना है। मण्डल कमीशन की देन बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर की है। उन्ही की प्रेरणा से मैंने भी समाज के इन वर्गो पर विशेष ध्यान दिया। डा0 अम्बेडकर ने नेहरू एंड कम्पनी की सरकार में अनुच्छेद 340 के तहत जब पिछड़ वर्गो को आरक्षण नहीं दिया तो डा0 अम्बेडकर ने कानून मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। 1951 से लेकर आज तक आरक्षण का कोटा सही तरीके से लागू नहीं किया गया। इसके पीछे भाजपा और कांग्रेस की अन्दरूनी साजिश आज भी है। जिस तरह डा0 भीम राव अम्बेडकर ने अनुच्छेद 340 लागू न होने पर कानून मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया उसी तरह मैंने भी डा0 अम्बेडकर की प्रेरणा से प्रभावित होकर उत्तर प्रदेश में सहारनपुर जिले में सबीरपुर गांव में दलितो के साथ अत्याचार की बात सदन में न रखने देने पर राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया। भाजपा ने सहारनपुर की घटना के दौरान पूरी मेरी हत्या की साजिश रची थी। भाजपा ने इतना ही नहीं दलितो को प्रलोभन देने के लिए राष्ट्रपति पद पर दलित उम्मीदवार खड़ा कर उन्हें लुभाने की कोशिश की लेकिन इस कोशिश को मैंने नाकाम कर दिया और इस मामले पर इतनी बयानबाजी की पूरे विपक्ष को मिलकर एक दलित प्रत्याशी देना पड़ा। ये बसपा की देन थी। उन्होने अति पिछड़ो दलित समाज के लोगो अल्पसंख्यको का आह्वाहन किया कि सब लोग शहरी निकाय के चुनाव और आगामी लोकसभा चुनाव बसपा के साथ एक जुट हो और झूठे प्रलोभन देने वाली भाजपा का सफाया कर दे। भाजपा 2019 के चुनाव को ध्यान में  रखकर देश में मंदिर-मस्जिद की राजनीति करेंगी। अयोध्या, काशी, मथुरा, चित्रकूट में धार्मिक उन्माद फैलाकर हिन्दूत्वका मुद्दा उठाकर किसी भी तरह सत्ता में काबिज होने का प्रयास करेंगी लेकिन बसपा के लोगो को इससे सावधान रहने की जरूरत है। भाजपा ने बीते चुनाव में कर्जमाफी के नाम पर किसानो को धोखा दिया। 2 ,5,10 रूप्ये कर्जा माफ कर गांव के जनता के साथ भद्दा मजाक किया। मायावती ने कहा कि भाजपा ने एक सोची समझी साजिश के तहत ईवीएम मशीन में सेंटिंग कर उनके समाज के लोगो के साथ अन्याय किया और यूपी में पूर्ण बहुमत हासिल कर बसपा को नुकसान पहंुचाया।

मायावती ने अपने कार्यकाल की जमकर की तारीफ 

बसपा सुप्रीमो ने अपने सरकार के कार्यकाल की उपलब्धियो का बखान किया। कहा कि बसपा ने प्रदेश का विकास किया लोगो को रोजगार दिये, कानून व्यवस्था बेहतर रही, प्रदेश के नामी गिरामी अपराधियो को उनके असली जगह भेजा, भ्रष्टाचामुक्त शासन दिया। पीएम मोदी की तरह झूठे वादे नहीं किये। हवा-हवाई भाषण नहीं दिया। मोदी ने कहा था काले धन वापस ले आयेंगे और देश की जनता के खातो मंे 15 लाख रूपये जायेंगे। 2 करोड़ युवाओ को रोजगार दिया जायेगा लेकिन ये सारे वादे झूठे साबित हुए। 2014 लोकसभा के आम चुनाव में केवल 31 प्रतिशत वोट भाजपा को मिले थे लेकिन नरेंद्र मोदी ने विदेशो मंे जाकर ऐसा झूठ बोला कि जैसे देश की सवा सौ करोड़ जनता उन्हीं के साथ है। नोटबंदी और जीएसटी का देश की अर्थ व्यवस्था पर बूरा प्रभाव पड़ा है। लोगो के रोजगार के अवसर कम हो गये, गरीबी और मंहगाई बढ़ रही है। अब इस बात के संकेत मिलने लगे है कि भाजपा के बूरे दिन आने वाले है। आरएसएस जैसी संस्था देश में षड़यंत्र कर जातिवादी मानसिकता का विश बो रही है। अब देश की जनता धार्मिक भावनाओ के बहकावे मंे आने वाली नहीं है। गोरक्षा के नाम पर साम्प्रदायिक हिंसा फैलाई जा रही है। धर्म के नाम पर प्रदेश में आतंक का माहौल है। मुस्लिम समाज पूरी तरह डर कर जीवनयापन कर रहा है। अब तो हिन्दू समाज के लोग भी गाय लेकर कही जाने से कतरा रहे है। उन्हे भी फंसा दिया जायेगा। भाजपा एक जातिवादी संर्कीण मानसिकता तथा पूंजीपतियो की पार्टी है। ऐसे में गरीबो, बेरोजगारो, नौजवानो, मुसलमानो का भला होने वाला नहीं है। देश हित मंे इन्हे आगामी चुनाव में हर हालत में रोकना होगा। भाजपा अपने फायदे के लिए सरकारी मशीनरी, ईडी, सीबीआई, इनकम टेक्स का दुरूपयोग कर बड़े-बड़े नेताओ का उत्पीड़न कर सकती है। अयोध्या में मंदिर बने या अन्य स्थानो पर कोई मंदिर इससे गरीबो का कोई भला नहीं होने वाला है बल्कि चढावा के नाम पर गरीबो की जेबे ढीली होगी और मठ चलाने वाले अमीर होंगे।

About Bharat Good News

error: Content is protected !!