Saturday , November 28 2020

प्रमुख समाचार


विज्ञापन

Home / पूर्वांचल समाचार / आज़मगढ़ / जिला चिकित्सालय-करोड़ों का बना ट्रामा सेंटर में सुविधा का अभाव

जिला चिकित्सालय-करोड़ों का बना ट्रामा सेंटर में सुविधा का अभाव

आजमगढ़-डेस्क-रिपोर्ट-सोनू पंडित-सिटी रिपोर्टर 
आजमगढ़। एक्सीडेंटल मरीजों को एक ही छत के नीचे सभी सुविधाएं मुहैया कराने के उद्देश्य को लेकर मंडलीय अस्पताल परिसर में ट्रामा सेंटर का निर्माण कराया गया था। करोड़ों की लागत से स्थापित यह सेंटर स्थपना के दो साल बाद भी मरीजों को सारी सुविधाएं मुहैया नहीं करा पा रहा है। मंडलीय अस्पताल प्रशासन की लापरवाही का ही नतीजा है कि शासन की मंशा के अनुरूप जिला अस्पताल में मरीजों को स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिल पा रही है। 2015 में तत्कालीन प्रदेश सरकार ने जिला अस्पताल को ट्रामा सेंटर की सुविधा देने की घोषणा कर दी। सरकार ने तत्काल 1.17 करोड़ की धनराशि भी उपलब्ध करा दिया। पिछली सरकार में आजमगढ़ जिला प्रदेश सरकार के रडार पर होने के चलते काम भी तेजी से हुआ और अप्रैल 2016 में आधी अधूरी तैयारी के बीच ट्रामा सेंटर का लोकार्पण भी हो गया। अस्पताल प्रशासन ने भी इमरजेंसी विभाग को ट्रामा सेंटर में स्थानांतरित कर दिखाने के लिए ट्रामा सेंटर की शुरूआत कर दी। वर्तमान में ट्रामा सेंटर से इमरजेंसी विभाग पुन: अपने पहले स्थान पर स्थानांतरित कर दिया गया है। मंडलीय अस्पताल का मात्र आर्थो विभाग का संचालन ट्रामा सेंटर से हो रहा है और उसी एक विभाग के संचालित होने के चलते अस्पताल प्रशासन ट्रामा सेंटर के चालू होने का दावा करता रहता है। वास्तविकता तो यह है कि ट्रामा सेंटर पूरी तरह से सफेद हाथी साबित हो रहा है। अस्पताल प्रशासन इसे अब तक पूरी तरह से चालू नहीं करा सका है।

मानक के अनुरूप नहीं हुई तैनाती
आजमगढ़। ट्रामा सेंटर के लोकार्पण के पूर्व ही स्वास्थ महकमें ने इसके सफल संचालन के लिए 11 डॉक्टर, 15 स्टाफ नर्स, 3 ओटी टेक्नीशियन, 3 एक्स-रे टेक्नीशियन, 2 लैब टेक्नीशियन, 9 नर्सिंग असिस्टेंट व 9 मल्टी टास्क वर्कर का पद सृजित किया था। लेकिन अब तक ट्रामा सेंटर के लिए न तो डॉक्टर ही उपलब्ध हो पाए न ही अन्य कर्मचारियों की ही पूरी तरह से तैनाती हो सकी। शुरूआत में यहां दो डॉक्टर, 6 स्टाफ नर्स, 1 लैब असिस्टेंट, 3 एक्स-रे टेक्नीशियन, 9 मल्टी टास्क वर्कर की तैनाती हुई थी। जो वर्तमान में मंडलीय अस्पताल में अपनी सेवाएं दे रही है।

अब नहीं स्थापित हुई कई मशीनें
आजमगढ़। ट्रामा सेंटर में सिटी स्कैन, एक्स-रे मशीन के साथ ही अन्य तमाम जांच की मशीनों को स्थापित किया जाना था। इसमें से कई मशीने आ कर रखी भी हुईङ है। इसके साथ ही सेंटर का ओटी भी अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस होना था। शासन से सारी व्यवस्थाओं व उपकरणों के उपलब्ध होने के बाद भी अस्पताल प्रशासन अब तक उन्हें स्थापित नहीं करा सका है।

स्टाफ की कमी के चलते हो रही दिक्कत- एसआईसी
आजमगढ़। मंडलीय अस्पताल के एसआईसी डॉ. जीएल केशरवानी ने बताया कि स्टाफ की कमी के चलते ही ट्रामा सेंटर का ठीक ढंग से संचालन नहीं हो पा रहा है। पूरा प्रयास है कि आने वाले तीन-चार माह में यह सेंटर पूरी तरह से काम करने लगेगा। ट्रामा सेंटर में अभी कई मशीने लगनी है, जिसमें कुछ आ गई है तो कुछ आने वाली है। जल्द ही सारा काम पूरा करा कर मरीजों को बेहतर सुविधा उपलब्ध कराया जाएगा।

About Bharat Good News

error: Content is protected !!