Wednesday , May 27 2020

प्रमुख समाचार


विज्ञापन

Home / राज्य / अरुणाचल प्रदेश / जानिए- मोदी कैबिनेट में किसको कौन सी जिम्मेदारी मिली

जानिए- मोदी कैबिनेट में किसको कौन सी जिम्मेदारी मिली

नई दिल्‍ली। नई सरकार में मंत्रियों के विभागों का बंटवारा करने के बाद उन्‍हें पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई गई है। राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) रक्षा, अमित शाह (Amit Shah) को गृह, जबकि एस. जयशंकर (S. Jaishankar) को विदेश मंत्रालय की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है। नितिन गडकरी (Ntin Gadkari) को सड़क परिवहन, राजमार्ग और सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम जबकि स्मृति ईरानी (Smriti Irani) को कपड़ा मंत्रालय के साथ साथ महिला और बाल विकास मंत्रालय की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है।

नरेंद्र सिंह तोमर कृषि मंत्री, हर्षवर्धन स्वास्थ्य मंत्री और पीयूष गोयल (Piyush Goyal) रेल मंत्री बनाए गए हैं। निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) को वित्त और कॉर्पोरेट, रामविलास पासवान को उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं आपूर्ति जबकि नरेंद्र सिंह तोमर को कृषि, किसान कल्याण, ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्रालय की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है।

रविशंकर प्रसाद को विधि एवं न्याय, संचार, इलेक्ट्रॉनिक्स व आईटी जबकि हरसिमरत कौर बादल को खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय का कार्यभार सौंपा गया है। थावरचंद गहलोत को सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय, रमेश पोखरियाल निशंक को मानव संसाधन विकास मंत्रालय का प्रभार दिया गया है। अर्जुन मुंडा को जनजाति मामले,  डॉ. हर्षवर्धन को स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, विज्ञान व प्रौद्योगिकी एवं पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है।

प्रकाश जावड़ेकर पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन, सूचना और प्रसारण मंत्री होंगे। पीयूष गोयल को रेल, उद्योग एवं वाणिज्य जबकि धर्मेंद्र प्रधान को पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस, इस्पात मंत्रालय दिया गया है।प्रह्लाद जोशी खनन एवं कोयला मंत्रालय के साथ साथ संसदीय कार्य मंत्री की भी जिम्‍मेदारी निभाएंगे। महेंद्र नाथ पांडेय को कौशल विकास एवं उद्यमशीलता मंत्रालय का प्रभार सौंपा गया है।

नई कैबिनेट में कुल 57 मंत्री हैं जिनमें भाजपा के 53 जबकि सहयोगी दलों के चार नेताओं को मंत्री बनाया गया है। 20 ऐसे नाम हैं जिन्‍हें पहली बार मंत्री बनाया गया है। 24 नेताओं को कैबिनेट जबकि 33 को राज्‍य मंत्री के तौर पर सेवा का मौका दिया गया है। कुल 22 राज्‍यों को दिए गए प्रतिनिधित्‍व में यह कोशिश हुई है कि हर वर्ग को मौका मिले। उत्तर प्रदेश से सबसे ज्यादा आठ सांसदों को मंत्री बनाया गया। 33 राज्‍य मंत्रियों में से नौ को स्‍वतंत्र प्रभार दिया गया है। नए मंत्रिमंडल में करीब 22 पुराने मंत्री शामिल नहीं किए गए हैं।

अरुणाचल पश्चिम सीट से दो बार के सांसद किरेन रिजिजू का दर्जा राज्यमंत्री से बढ़ाकर राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार कर दिया गया है। गिरिराज सिंह को पिछली बार राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार का दर्जा मिला था लेकिन इस बार राज्‍य मंत्री बनाया गया है। पिछली सरकार में नौ महिलाओं को मंत्री बनाया गया था जबकि इस बार छह महिलाओं को मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है। महेंद्र नाथ पांडेय पिछली बार राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार थे। इस बार उन्‍हें कैबिनेट मंत्री के तौर पर जिम्‍मेदारी दी गई है।

About Bharat Good News

error: Content is protected !!