Thursday , October 29 2020

प्रमुख समाचार


विज्ञापन

Home / पूर्वांचल समाचार / आज़मगढ़ / आजमगढ़:BIG BREAKING- सबसे बड़ा रेलवे ई-टिकट दलाल गिरोह का भंडाफोड़ 2 सगे भाई गिरफ्तार,39लाख32हजार881 रूपये का ई-टिकट बरामद

आजमगढ़:BIG BREAKING- सबसे बड़ा रेलवे ई-टिकट दलाल गिरोह का भंडाफोड़ 2 सगे भाई गिरफ्तार,39लाख32हजार881 रूपये का ई-टिकट बरामद

रिपोर्ट-शिवम तिवारी

आजमगढ़ 16 नवंबर ।यूपी  का आजमगढ़ जिला  फिर सुर्खियों में है लेकिन इस बार मामला ना अंडरवर्ल्ड से है और ना ही आतंकवाद से  इस बार  लखनऊ आरपीएफ की क्राइम ब्रांच की टीम ने एक ऐसे मामले का खुलासा किया है  जो अब तक  का ई टिकट का  सबसे बड़ा कारोबार करने वाला  गिरोह  इस टीम के हत्थे लगा ।15 नवंबर  की रात को  क्राइम ब्रांच की टीम ने आजमगढ़ जिले के  जीयनपुर थाना क्षेत्र के  अंजाम शहीद बाजार में  टिकट  ई टिकट का अवैध कारोबार  करने वाला गिरोह  पकड़ा गया ।दिल्ली में आईआरसीटीसी के एंटी फ्राड सेल से ऑनलाइन संपर्क करने के बाद  लगातार  1 सप्ताह की निगरानी की गई, इसके बाद क्राइम ब्रांच ने  इस मामले से जुड़े लोगों को  धर दबोचा  और उनके पास से  लाखों रुपए की टिकट  की बरामदगी की ।

आरपीएफ आज़मगढ़ के अनुसार रेलवे बोर्ड दिल्ली के निर्देश पर लखनऊ आरपीएफ क्राइम ब्रांच के इंस्पेक्टर अमित कुमार राय के साथ एसआइ कैलाश प्रसाद, कौशल कुमार शुक्ला, गणेश प्रसाद सिंह और राकेश धर दुबे, एएसआइ रामबृक्ष और सुमित खरवार ने 15 नवंबर शुक्रवार को जीयनपुर थाना क्षेत्र के अंजान शहीद स्थित गुप्ता ट्रैवेल सर्विस नाम के प्रतिष्ठान पर छापा मारा और मौके से दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया यह दोनों अंजान शहीद के ही निवासी हैं एक का नाम विजय कुमार गुप्ता 33 वर्ष और दुर्गा प्रसाद गुप्ता 50 वर्ष दोनों सगे भाई हैं इसके अलावा रतन लाल गुप्ता आजम संतोष कुमार गुप्ता को भी पुलिस ने वांछित किया है ये सभी इलाहाबाद जिले के फूलपुर के निवासी हैं ।  इस भंडाफोड़ में पहले से बने टिकटों के लिए यात्रियों को फर्जी पहचान पत्र बनाकर उपलब्ध कराने संबंधी सबूत भी प्रकाश में आए। जिस लैपटॉप में टिकट बनाने का काम होता था उसमे प्रतिबंधित साफ्टवेयर एएनएमएस पर टिकट बनाना भी पाया गया। क्राइम ब्रांच की टीम ने आरोपितों के पास से  तीन मोबाइल फोन,दो एसबीआइ व , तीन पासबुक, चेक, एक यूबीआइ के एटीएम कार्ड ,दो लैपटाप, एक प्रिटर, के अलावा 12440 रुपये भी बरामद किया गया।    साथ ही 39 लाख 32 हजार 881 रुपये के 1869 ई-टिकट बरामद हुए। 

ई टिकट के अवैध कारोबार को अंजाम देने वाले ये युवक कुछ बड़े दलालों के साथ मिलकर साफ्टवेयर में गड़बड़ी कर कुछ सेकेंड पहले ही कंफर्म टिकट निकाल लेते थे। इसके एवज में प्रति यात्री टिकट मूल्य के अलावा एक हजार से 1500 रुपये अतिरिक्त वसूलते थे ।गिरफ्तार  दोनों आरोपितों कोआज़मगढ़ रेलवे स्टेशन के  आरपीएफ प्रभारी राशिद बेग मिर्जा को सौंप दिया गया। राशिद मिर्ज़ा ने इन आरोपियों को एफआईआर दर्ज कर जेल भेज दिया।

About Bharat Good News

error: Content is protected !!