Wednesday , October 23 2019

प्रमुख समाचार


Home / पूर्वांचल समाचार / आज़मगढ़ / आजमगढ़ की मंडलीय समीक्षा में यूपी के सीएम योगी ने कानून व्यवस्था पर जोर,कहा विश्वविद्यालय की जमीन जल्द तलाशें 

आजमगढ़ की मंडलीय समीक्षा में यूपी के सीएम योगी ने कानून व्यवस्था पर जोर,कहा विश्वविद्यालय की जमीन जल्द तलाशें 

रिपोर्ट-धर्मेंद्र श्रीवास्तव के साथ ज्ञानेंद्र चतुर्वेदी 
आजमगढ़  | उत्तर प्रदेश में सरकार बनने के बाद आज पहली बार आजमगढ़ में मंडलीय समीक्षा करने पहुंचे प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महसूस किया की कानून व्यवस्था में कही न कही ख़राब हुई है इसलिए उन्होंने समीक्षा में कानून व्यवस्था के हर पहलु को चुस्त दुरुरुस्त करने पर जोर दिया | उन्होंने केंद्र और प्रदेश सरकार की चल रही योजनाओं को गति देने पर जोर दिया और कहा की विकास योजनाओं को जल्द से जल्द लागू किया जाय |शनिवार को वाराणसी में विकास कार्यों की समीक्षा लेने के बाद रविवार को आजमगढ़ पहुंचे। उनका लोक सभा चुनाव के बाद आजमगढ़ में ये पहला दौरा है। सीएम योगी रविवार को साढ़े 10 बजे आजमगढ़ पुलिस लाइन पहुंचे। यहां से वह सीधे कमिश्नरी सभागार गए जहां आजमगढ़ मंडल के तीनो जनपदों की लगभग तीन घंटे विकास कार्यों और कानून व्यवस्था की समीक्षा की | उन्होंने आजमगढ़ में  बनने वाले विश्वविद्यालय के लिए जमीन की व्यवस्था जल्द करने के निर्देश दिए।आजमगढ़ की मार्टीनगंज तहसील के लिए बन रहे भवन निर्माण में मिल रही शिकायत के बीच इसकी जांच कराने के निर्देश दिए गए। दोषी को जेल भेजने के निर्देश दिए गए।
 मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ ने सबसे ज्यादा जोर कानून व्यवस्था  करने प कानून व्यवस्था को  समाज की आधारशिला बताया । कहा , यदि यह सुदृृढ़ नहीं तो शेष कार्य आगे बढ़ा पाना संभव नहीं हो सकेगा । उन्होंने यह भी कहा कि सरकार पर आम जनता का विश्वास होना जरूरी है, इसके लिए उनसे निरन्तर संवाद बनाये रखा जाना जरूरी है। उन्होने निर्देश दिया कि बाल अपराध, यौन अपराध, महिला अपराध सहित अन्य जघन्य अपराधों में यह सुनिश्चित किया जाये कि चार्जशीट आदि समय से दाखिल कराकर केस को फास्ट्रैक कोर्ट में ले जाकर उसकी प्रभावी पैरवी कराते हुए अपराधी को समय सीमा के अन्दर सजा करायें, ताकि अन्य अपराधियों को नसीहत मिल सके। उन्होने सभी पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिया कि किसी भी पुलिसकर्मी के विरुद्ध यदि अवैध वसूली की शिकायत मिलती है तो सम्बन्धित के विरुद्ध तत्काल एफआईआर दर्ज कराते हुए सख्त कार्यवाही सुनिश्चित की जाय। उन्होंने कहा कि युनिफार्म के बल पर अराजकता, अवैध वसूली, तस्करी आदि पर सख्ती से रोक लगाई जाय। मा0 मुख्यमन्त्री जी ने बाइकर्स द्वारा  आयेदिन हो रही लूट की घटनाओं पर नाराजगी व्यक्त करते हुए निर्देश दिया कि लगातार पेट्रोलिंग कराते रहें बिना लाइसेंस, बिना हेल्मेट कोई भी वाहन चलाते हुए या स्टण्ट करते हुए पाया जाये तो तुरन्त नियमानुसार कार्यवाही करें, इसके साथ ही टूव्हीलर पर किसी भी दशा में दो से अधिक लोग नहीं होने चाहिए।
मुख्यमन्त्री श्री योगी आदित्यनाथ रविवार को आयुक्त कार्यालय के सभागार में मण्डल के तीनों जनपदों की कानून व्यवस्था एवं विकास कार्यक्रमों के अन्तर्गत विभिन्न बिन्दुओं पर समीक्षा कर रहे थे। उन्होने कानून व्यवस्था की समीक्षा के दौरान जनपद आज़मगढ़ में पर्याप्त संसाधन के उपरान्त भी आपराधिक घटनाओं में अपेक्षित कमी का अभाव मिलने तथा मऊ में रोक के बावजूद वाहनों पर लाल एवं नीली बत्तियों के प्रयोग पर अप्रसन्नता व्यक्त करते हुए प्रभावी कार्यवाही का निर्देश दिया। उन्होंने जनपद बलिया के सम्बन्ध में कहा कि बिहार से सटा होने के कारण यहाॅं अपराध और तस्करी की संभावनायें अधिक रहती हैं, इसलिए इस पर फोकस करना जरूरी है। इसके साथ ही उन्होंने सभी पुलिस अधीक्षकों को यह भी निर्देश दिया कि समाज विरोधी एवं राष्ट्र विरोधी तत्वों की गतिविधियों पर प्रभावी अंकुल लगाने हेतु थानावार टाॅंप-10 अपराधियों की सूची तैयार करें तथा किसी भी घटना घटित होने से पहले ही उनपर कठोर कार्यवाही की जाये ताक अन्य अपराधियों में कानून व्यवस्था का भय पैदा हो सके। उन्होंने वर्षों से एक ही स्थान पर कार्यरत एवं आपराधियों के साथ साठगाॅंठ रखने वाले पुलिस कर्मियों की सूची भी तैयार कर उन्हें अन्यन स्थानान्तरित करने का निर्देश देते हुए आगाह किया कि यदि कहीं भी कोई आपराधिक घटना होती है तो पूरे थाने के साथ ही सम्बन्धित सर्किल के अधिकारी को भी जिम्मेदार मानते हुए कार्यवाही की जायेगी। 
   प्रदेश के मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि संवाद हमारी सबसे बड़ी ताकत है, अधिकारीगण उस ताकत का निरन्तर  इस्तेमाल कर प्रदेश में कानून व्यवस्था बनाये रखते हुए विकास की गति को निर्वाध्  रूप से संचालित कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि संवाद वन-वे नहीं होना चाहिए बल्कि हर स्तर पर आमजन के साथ ही जनप्रतिनिधियों से हर स्तर पर निरन्तर संवाद बनाये रखें, जिससे समस्याओं का स्थानीय स्तर पर ही समाधान किया जाय और आमजन को समस्याओं के समाधान हेतु लखनऊ तक भागदौड़ करने से बचाया जा सके। 

  मुख्यमन्त्री योगी आदित्य नाथ ने विकास कार्यक्रमों की प्रगति की समीक्षा के दौरान मण्डल में तीनों जनपदों में स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत जियो टैगिंग की स्थिति सन्तोषजनक नहीं पाई। उन्होंने इस पर नराजगी व्यक्त करते हुए तत्काल जियो टैगिंग का पूर्ण कराने का निर्देश  देते हुए यह भी कहा कि जबकि मण्डल पूरी तरह से ओडीएफ नहीं हो जायेगा तब तक मण्डल में स्वच्छ भारत अभियान चलता रहेगा। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा के दौरान तीनों जनपद के  मुख्य चिकित्साधिकारियों को निर्देशित किया कि जेई के उपचार की सभी व्यवस्थायें हर समय तैयार मिलनी चहिए, सुविधाओं के अभाव में किसी की मृत्यु नहीं होनी चाहिए। यूपी के सीम ने  पालिथीन एवं थर्माकोल के प्रति पूरी ताकत के साथ अभियान चलाकर लोगों को जागरूक करते हुए इसे पूरी तरह से प्रतिबन्धित करने का निर्देश दिया। कहा की इस क्षेत्र में लोगो को जागरूक करने की जरुरत है । उन्होंने कहा कि प्रधानमन्त्री शहरी आवास योजना ,आयुष्मान भारत योजना  की भी  समीक्षा की | मण्डल के तीनों जनपदों में गोल्डेन कार्ड के कम वितरण की स्थिति पर भी असन्तोष व्यक्त किया।  उन्होंने शिक्षा विभाग की भी समीक्षा की तथा निर्देश दिया कि जुलाई माह में हर हल में ड्रेस एवं पुस्तकों का वितरण हो जाना चाहिए | उन्होंने 1 से 7 जुलाई तक चलने वाले वन महोत्सव के दौरान  स्कूल के सभी बच्चों को पौधरोपण के प्रति जागरूकत करने का निर्देश दिया। उन्होने नगरीय क्षेत्रों में वाहन स्टैण्ड, सड़कों के किनारे दुकानदारों आदि से अवैध वसूली पर सख्ती से अंकुश लगाने का निर्देश देते हुए कहा कि सड़कों पर किसी भी प्रकार की वसूली बर्दाश्त नहीं की जायेगी, उन्होनंे सभी जिला मुख्यालयों पर एक सुन्दर पार्क हेतु कार्ययोजना बनाने हेतु जिलाधिकारियों को निर्देश दिया ताकि बच्चों के स्वस्थ मनोरंजन के साथ ही अन्य लोग भी उसमें मार्निंग वाक कर स्वास्थ्य लाभ ले सकें।
मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ ने आईजी जोन, मण्डलायुक्त, डीआईजी को निर्देश दिया कि जेलों का रैण्डम आधार पर दूसरे जनपद के जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक से करायें ताकि जेलों से किसी समाज विरोधी, राष्ट्र विरोधी गतिविधियों का संचालन रोका जा सके तथा जेलों को अपराधियों की पनाहगाह बनने से बचाया जा सके।

इस अवसर पर मा0मन्त्री उपेन्द्र तिवारी, सांसद वीरेन्द्र सिंह, विधायक सुरेन्द्र सिंह व अरुण यादव, फागू चैहान, आईजी जोन श्री बृजभूषण मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी, डीआईजी मनोज तिवारी, जिलाधिकारी आज़मगढ़ नागेन्द्र प्रसाद सिंह, डीएम मऊ ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी, डीएम बलिया भवानी सिंह खंगारौत, एसी आज़मगढ़ त्रिवेणी सिंह, एसपी मऊ अनुराग आर्या, एसपी बलिया देवेन्द्र नाथ, अपर आयुक्त धर्मेन्द्र सिंह, संयुक्त विकास आयुक्त पीएन वर्मा, आज़मगढ, मऊ बलिया के मुख्य विकास अधिकारी क्रमशः डीएस उपाध्याय, डा0 अंकुर लाठर व बद्रीनाथ सिंह सहित अन्य मण्डलीय एवं जनपद स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

About Bharat Good News

Leave a Reply

error: Content is protected !!