Saturday , November 28 2020

प्रमुख समाचार


विज्ञापन

Home / अपराध / अवैध शराब फैक्ट्री का भंडाफोड़, दो आरोपियों को गिरफ्तार

अवैध शराब फैक्ट्री का भंडाफोड़, दो आरोपियों को गिरफ्तार

आजमगढ़-डेस्क-रिपोर्ट-धर्मेन्द्र सोनकर-ब्लाक-अज़मतगढ़ 

आजमगढ़ । जीयनपुर कोतवाली क्षेत्र के सिकंदरपुर गांव में बंद पड़े स्कूल में संचालित अवैध शराब फैक्ट्री का बुधवार की शाम भंडाफोड़ करने के साथ ही देर रात को पुलिस ने घेराबंदी कर सिकंदरपुर गांव के सिवान से दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।
जबकि तीसरा और प्रमुख आरोपी फरार हो गया। बरामद शराब और सामान की कीमत दो करोड़ रुपये आंकी गई है। शराब पूर्वांचल के सरकारी ठेकों पर सप्लाई की जाती थी। गुरुवार को जीयनपुर कोतवाली पहुंचे एसपी अजय कुमार साहनी ने इस धंधे से जुड़े लोगों की संपत्ति जब्त करते हुए इन पर एनएसए लगाने का निर्देश दिया।
एसपी ग्रामीण नरेंद्र प्रताप सिंह के अनुसार गिरफ्तार आरोपियों में विजय प्रताप सिंह और बलवंत सिंगह जीयनपुर कोतवाली क्षेत्र के अमुवारी गांव के निवासी हैं। जबकि फरार मुख्य आरोपी मान सिंह जीयनपुर कोतवाली क्षेत्र के सिकंदरपुर गांव का निवासी है। गिरफ्तार आरोपियों के पास से एक तमंचा और कारतूस भी मिला। शराब की फैक्ट्री से बरामद हुए सामानों को तीन ट्रैक्टर ट्राली पर लादकर थाने लाई। एसपी ग्रामीण ने बताया कि कोतवाल जीयनपुर मुनीष प्रताप चौहान को बुधवार को मुखबिर के जरिए सूचना मिली कि सिकंदरपुर गांव निवासी मान सिंह के बंद पड़े स्कूल में काफी दिनों से अवैध शराब की फैक्ट्री चल रही है। सूचना पर कोतवाल ने अपनी टीम के साथ स्कूल को घेर लिया।  इस दौरान विजय प्रताप और बलवंत सिंह पुलिस टीम पर फायर कर फरार हो गए। जिन्हें बाद में घेराबंदी कर देर रात को गांव के पास से गिरफ्तार कर लिया गया।
एसपी ग्रामीण ने कहना था कि यह लोग अपने इस फैक्ट्री में शराब तैयार करके उसकी सप्लाई पूर्वांचल के सरकारी देशी शराब के ठेकों पर करते थे। इनके साथ सरकारी दूकान के लोगों के शामिल होने की वजह से किसी को अब तक जानकारी नहीं हो सकी थी। यह जांच का विषय है कि सख्ती के बावजूद सिकंदरपुर में कैसे अवैध शराब की फैक्ट्री चल रही थी। इस धंधे से जुड़े लोगों की संपत्ति जब्त करते हुए इन पर एनएसए लगाया जाएगा। – अजय कुमार साहनी, एसपी
पिछले तीन-चार माह में शराब माफियाओं को खिलाफ कड़ी और व्यापक स्तर पर कार्रवाई हुई है। इसके बाद भी इतनी मात्रा में अवैध शराब मिलना माफियाओं की घृष्टता को पुष्ट करती है। ये हमारे लिए चिंता का विषय और खतरनाक संकेत हैं। इसमें आबकारी विभाग की संलिप्तता की भी जांच की जाएगी, क्योंकि अवैध शराब की पैकिंग कर इसे सरकारी दुकानों पर भेजने की तैयारी थी। सभी आरोपियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। -चंद्रभूषण सिंह, जिलाधिकारी

About Bharat Good News

error: Content is protected !!